Tag Archive | social

योग पर नारे (Slogans on Yoga)

​1.जो चाहते हो तुम रोगों से छुटकारा।
तो लो नियमित योग का सहारा॥

2.योग है स्वस्थ जीवन पहचान।
नियमित योग से रोग निदान ॥

3.जब भी मिले मौका कर लो योग।
फिर देखो कैसे भागे रोग॥

4.जिंदगी न बीतेगी रोग संग।
जो रहा तुम्हारा योग संग॥

5.जब आपके पास है योग।
तो क्यों आएगा फिर रोग॥

6.मन स्वच्छ निरोगी काया।
जो योग नियमित अपनाया॥

7.जो कर लिया तुमने योग।
तो सकोगे सब सुख भोग॥

8.सब भोग सकोगे सब रोग भगेंगे।
जब तक हम नित योग करेंगे॥

9.जब तू जागे कर ले योग।
न देख वक्त न देख लोग॥

10.न खर्चे का डर न वक्त का फेर।
तो योग करने में न कर तू देर॥

11.योग करेंगे निरोग, तो करो नित योग।

रचनाकार – अमित चन्द्रवंशी

Advertisements

मैं उस कर्म की बात करूँगा… (मुक्तक)

न जात की बात करूँगा, न धर्म की बात करूँगा ।
न गर्व की बात करूँगा, न शर्म की बात करूँगा॥
इंसान होने का वो महान फर्ज बस तुम अदा कर दो,
ला दे जो दुनिया में खुशी, मैं उस कर्म की बात करूँगा ॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit our Facebook Page.

गुरु (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

image

गुरु बिन ज्ञान शून्य जगत,गुरु विश्व ज्ञानखान।
असंभव से संभव सब, पाया जो गुरु ज्ञान॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

यह भी पढ़ें :

हनुमान जी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

दहेज प्रथा की वास्तविकता (Reality of Dowry System)

अमित आज तू लोगों को रंग कैसे लगा पाएगा  (कविता)

योग (कविता)

योग पर विशेष 


image

धाकड़ अमित का भोपाली अंदाज

:

मुक्तक

बिन खर्चे एक रुपिया ।

कह  दो तुम  शुक्रिया ॥

योग से मिटे सब रोग,

तो तू क्यों न कर रिया॥

Continue reading

नव वर्ष संदेश

image

नया वर्ष शुरू हो गया है और क्या आप हर बार यूँ ही नव वर्ष मनाओगे? 
   मैं आपको मात्र विक्रम संवत् २०७२ के नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ही दे सकता हूँ क्योंकि बधाई तो तब देता जब नव वर्ष की शुरुआत बड़े ही उत्तम ढंग से हुई होती ।परन्तु नव चेतना, नव उल्लास, नव समय इत्यादि को लाने वाला जब असमय ही ओलावृष्टि के साथ कष्टदायक पीड़ा को लेकर आगमन करे तब कदाचित आप इसे सुखद नहीं कह सकते । नव वर्ष सदैव खुशियों को लाने वाला है पर उसके रंग में भंग उत्पन्न करके आपने सारा स्वरूप बिगाड़ दिया है । अब जिम्मेदारी आपकी ही है कि इस शुभ अवसर पर संकल्प लें और इस संसार के विनाश के कारकों को ठीक उसी प्रकार निकाल फेंकिए जिस प्रकार एक तपस्वी संसार की मोह माया को निकाल फेंकता है । 
      आपके पापों का फल अकेले अन्नदाता ही को क्यों चुकाना पड़े । आप पर तो ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा परंतु जिसने दिन रात मेहनत की है उसके हृदय का हाल तो पूछिए, मानो मंदराचल के शिखर से उसके उर को विदीर्ण कर दिया गया हो । लेकिन अभी नहीं तो शीघ्र ही आपको इसका परिणाम भुगतना होगा । प्रदुषण को बढ़ाने के आप वो सारे कृत कर रहे हो जिन्हे आप को नहीं करना चाहिए था बल्कि आप को वृक्षों को अधिक से अधिक संख्या में लगाना चाहिए था पर आप तो इसके विपरीत कर्म कर रहे हो।
Continue reading

मैं घर पर सूरज नहीं देखता (कविता)

कविता

image

मैं घर पर सूरज नहीं देखता।
यह मत समझना , मैं देख नहीं सकता ॥
या फिर घर से सूरज नहीं दिखता ।
समय का अभाव है मुझसे कहता ॥
कि घर से तू सूरज देख नहीं सकता ॥1॥

Continue reading