Tag Archive | muktak

मैं उस कर्म की बात करूँगा… (मुक्तक)

न जात की बात करूँगा, न धर्म की बात करूँगा ।
न गर्व की बात करूँगा, न शर्म की बात करूँगा॥
इंसान होने का वो महान फर्ज बस तुम अदा कर दो,
ला दे जो दुनिया में खुशी, मैं उस कर्म की बात करूँगा ॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit our Facebook Page.

Advertisements

जहर पीकर भी कैसे अमर हुआ नहीं जा सकता… (मुक्तक)

Shiv Shankar, Bhole Baba

कौन कहता है कि मुर्दे में जान को लाया नहीं जा सकता।
और असंभव को भी कभी संभव बनाया नहीं जा सकता॥
उन भोले बाबा से पूछो कि काज कैसे बनाया जाता है;
कि जहर पीकर भी कैसे अमर हुआ नहीं जा सकता॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit on Facebook.

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी? 

बिन मौसम मौसमों का मजा लीजिए (मुक्तक)

तू एक कदम तो चल… (मुक्तक)

होली (कविता)

मैं घर पर सूरज नहीं देखता… (कविता)

मेरा भारत आज तक उन्हें नम आँखों से ढूँढता है(मुक्तक)

मेरा भारत आज तक उन्हें नम आँखों से ढूँढता है।
जिनका नारा आज भी दिलों दिमाग में गूँजता है॥
वो ‘दिल्ली चलो’ बोलकर ‘हिन्द फौज’ भेज गए,
पर आप कहाँ रह गए ये आज पूरा भारत पूछता है॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

गलती किस से नहीं होती (मुक्तक)


गलती किस से नहीं होती मैं भी एक इंसान हूँ।

हड़बड़ी हो गई मुझसे नहीं कोई शैतान हूँ॥

माफ करना मुझे इस गलती के लिए अब नहीं होगी,

कोशिश करूँगा फिर न हो मैं थोड़े ही कोई भगवान हूँ॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

You also read this poem in Hinglish

नेता खड़ा पिपासा तख्त के लिए (मुक्तक)

मुक्तक :

image

जैसे पपीहा* रहे प्यासा उस वक्त के लिए।
जैसे दुश्मन रहे प्यासा उस रक्त के लिए॥
वैसे ही धन प्यास ऐसी कि बुझाये से भी न बुझे;
जैसे नेता खड़ा पिपासा उस तख्त के लिए॥

Continue reading

वक्त(मुक्तक)

image

वक्त बर्बाद करने की ‘अमित‘ ने आदत नहीं बनाई।
और वक्त बर्बाद करने की वक्त से मोहलत भी नहीं पाई॥
जो एक बार वक्त बर्बाद हुआ ‘अमित‘ कभी भूल से,
तो वक्त ने भी फिर कहाँ बर्बाद करने में देर लगाई॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

यह भी पढ़ें :

भ्रष्टाचार (छंद)

ढोंगी साधु (कविता)

क्यों करूँ मैं आत्महत्या? (कविता)

जो शूल बन गये हैं…(मुक्तक)

image

जो शूल बन गये हैं अब, उन्हें फूल बना दीजिए।
और जो फूल थे अब तक, उन्हें शूल बना दीजिए॥
कब तक बेबस रहकर ‘अमित‘, प्यासा रहेगा पपीहा;
जो अब रोब कोई जमाये, उसे धूल बना दीजिए॥

रचयिताअमित चन्द्रवंशी