Archives

मैं तब तक नादान था…

मैं तब तक नादान था कि जब तक ये जमाना नादान था।

पर यूँ ही अचानक हिंसक बन जाना न मेरा कोई अरमान था॥

द्वारा – अमित चन्द्रवंशी

Advertisements

कर्म (विचार)

कर्म में लिखा और कर्म से लिखा कोई नहीं मिटा सकता बस आपको कर्म का लेखा जोखा सही रखना होगा।

द्वारा – अमित चन्द्रवंशी