Archives

मौत के मुख में भी वो वतन के दीवाने हँस रहे थे…

​जैसे-जैसे कदम उनका जहाँ-जहाँ पर बढ़ता था।
इंकलाब के शोर से अंग्रेजों का दिल कँपता था ॥
कैदी न कोई कैदी रहा इंकलाब तब सबने कहा,
भय से तब अंग्रेजों का कदम-कदम बहकता था॥

एक भी बूँद न उनके आँसू एक पल को भी छलका।
पर उस पल अंग्रेजों का पसीना टप-टप था टपका॥
मौत के मुख में भी वो वतन के दीवाने हँस रहे थे,
पर तब भी अंग्रेजों का दिल बड़ी जोर-जोर से था धड़का॥

जब लाहौर में उस दिन का सूरज डूब रहा था।
इंकलाब के नारे से तब पूरा शहर गूँज रहा था॥
तीन सितारों से सतलुज किनारा चमक उठा था,
और अंग्रेजों का भय से पल-पल कंठ सूख रहा था॥

सोचा था शवों को सतलुज किनारे जला दिया। 
और इस बढ़ते जनद्रोह को उन्होंने दबा दिया ॥
पर उन्हें क्या पता था कि पैर पर कुल्हाडी मार ली;
और अपने विनाश का रास्ता खुद उन्होंने बना दिया॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी 

मेरा भारत आज तक उन्हें नम आँखों से ढूँढता है(मुक्तक)

मेरा भारत आज तक उन्हें नम आँखों से ढूँढता है।
जिनका नारा आज भी दिलों दिमाग में गूँजता है॥
वो ‘दिल्ली चलो’ बोलकर ‘हिन्द फौज’ भेज गए,
पर आप कहाँ रह गए ये आज पूरा भारत पूछता है॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

मुक्तछंद स्वतंत्रता दिवस कविता

Independence day poem

Indian Flag

स्वतंत्रता दिवस मना आप हर साल रहे।
और स्वतंत्रता का गलत मतलब निकाल रहे॥

Continue reading

गणतंत्र (कविता)

image

जन के तंत्र का जो मंत्र है ।
वही तो उनका गणतंत्र है ॥
जन के विचार ही तो मंत्र हैं ।
वही मंत्र तो उनके शस्त्र हैं ॥

Continue reading