Archives

धनतेरस मुक्तक

धनतेरस मुक्तकतन   बलिष्ठ   हो  मन  हर्षित  हो ।
सब   मनोंकामनायें  फलित   हो॥
रहे ‘अमित’ यम-धन्वन्तरि आशीष,
खुशी धन दीप सदा प्रज्वलित हो॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also read in Hinglish.

धनतेरस की पूर्ण कथा जानने की लिए यहाँ click करें

Also visit my Facebook Page.

यह भी पढ़ें:

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

दीपावाली प्रतीक है 

आजकल के बच्चे  (Modern poem)

 

जन्मदिवस शुभकामनाएँ  (Birthday wishes with Poem)

Birthday Poem By Amit Chandrawanshi

Birthday Poem By Amit Chandrawanshi

🎁˙˙˙noʎ oʇ ʎɐpɥʇɹıq ʎddɐɥ🎂

जन्मदिवस शुभ अवसर पर ,
     लो खुशियाँ उपहार में हर ।
आप जियो साल हजार ,
     नाम  हो  आपका  अपार ।
सबके आशीष पाओ सर,
     आपसे दुखी न होय कोई नर।
खुशियों से भरे घर संसार ,
     न हो जिंदगी में आपकी हार।
बनो आप इतने बड़े फनकार,
     कामयाबी कदम चूमे हर बार।
बन महान छोड़ ऐसा असर ,
     आप  हो  जाओ  सदा  अमर।
धाकड़ अमित‘ की यही पुकार ,
     प्रभु कृपा रहे आप पर बरकरार। 

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit my Facebook Page.

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

ढ़ोंगी साधु (कविता)

एक मुस्कान  (कविता)

बिन मौसम मौसमों का मजा लीजिए (मुक्तक)

रक्षाबंधन  (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

अति पावन स्नेह बंधन, रक्षा का अनमोल।
भाई – बहन रिश्तों में, और मिठास दे घोल॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also read in Hinglish

Also visit my Facebook page

यह भी पढ़ें :

एक मुस्कान  (कविता)

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

क्यों करूँ आत्महत्या? (कविता)

पिता (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

निज सुख से पहले रहे, सदैव गृह सुख ध्यान।
पितृ कर्ज से कभी उऋण, न हो सके संतान॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

यह भी पढ़ें :

आजकल के बच्चे  (Modern Poem)

अमित आज तू लोगों को रंग कैसे लगा पाएगा  (होली कविता)

भ्रष्टाचार  (छंद)

नव वर्ष संदेश

image

नया वर्ष शुरू हो गया है और क्या आप हर बार यूँ ही नव वर्ष मनाओगे? 
   मैं आपको मात्र विक्रम संवत् २०७२ के नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ही दे सकता हूँ क्योंकि बधाई तो तब देता जब नव वर्ष की शुरुआत बड़े ही उत्तम ढंग से हुई होती ।परन्तु नव चेतना, नव उल्लास, नव समय इत्यादि को लाने वाला जब असमय ही ओलावृष्टि के साथ कष्टदायक पीड़ा को लेकर आगमन करे तब कदाचित आप इसे सुखद नहीं कह सकते । नव वर्ष सदैव खुशियों को लाने वाला है पर उसके रंग में भंग उत्पन्न करके आपने सारा स्वरूप बिगाड़ दिया है । अब जिम्मेदारी आपकी ही है कि इस शुभ अवसर पर संकल्प लें और इस संसार के विनाश के कारकों को ठीक उसी प्रकार निकाल फेंकिए जिस प्रकार एक तपस्वी संसार की मोह माया को निकाल फेंकता है । 
      आपके पापों का फल अकेले अन्नदाता ही को क्यों चुकाना पड़े । आप पर तो ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा परंतु जिसने दिन रात मेहनत की है उसके हृदय का हाल तो पूछिए, मानो मंदराचल के शिखर से उसके उर को विदीर्ण कर दिया गया हो । लेकिन अभी नहीं तो शीघ्र ही आपको इसका परिणाम भुगतना होगा । प्रदुषण को बढ़ाने के आप वो सारे कृत कर रहे हो जिन्हे आप को नहीं करना चाहिए था बल्कि आप को वृक्षों को अधिक से अधिक संख्या में लगाना चाहिए था पर आप तो इसके विपरीत कर्म कर रहे हो।
Continue reading