Archives

जहर पीकर भी कैसे अमर हुआ नहीं जा सकता… (मुक्तक)

Shiv Shankar, Bhole Baba

कौन कहता है कि मुर्दे में जान को लाया नहीं जा सकता।
और असंभव को भी कभी संभव बनाया नहीं जा सकता॥
उन भोले बाबा से पूछो कि काज कैसे बनाया जाता है;
कि जहर पीकर भी कैसे अमर हुआ नहीं जा सकता॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit on Facebook.

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी? 

बिन मौसम मौसमों का मजा लीजिए (मुक्तक)

तू एक कदम तो चल… (मुक्तक)

होली (कविता)

मैं घर पर सूरज नहीं देखता… (कविता)

Advertisements

  श्रीराम जी भी मनाते थे दीपावली

दीपावली मनाने के पीछे बदलते समय के साथ सभी के अलग-अलग मत(विचार) हैं और हो भी क्यों नहीं? क्योंकि दीपावली का प्रतीक है ही ऐसा…

दीपावली प्रतीक है‘ जानने के लिए click करें

दीपावली को मनाने के लिए कथाएँ तो बहुत मिलती हैं और अधिकांश यही मानते हैं कि दीपावली के दिन श्रीराम जी लंका के अत्याचारी राजा रावण का वध करके अयोध्या वापस लौटे थे, अतः उनके अयोध्या लौटकर आने की खुशी में दीपावली का त्योहार मनाने की शुरूआत हुई थी परन्तु आपको यह जानकर अचरज होगा कि दीपोत्सव तो पहले से ही मनाया जा रहा था और जिसे स्वयं श्रीराम भगवान भी मनाते थे और उस दिन भी मनाया गया था।

तो हम आपको बता दें कि श्रीराम जी से जुड़ी हर कथा के लिए आदिकवि वाल्मीकि जी की रामायण को मुख्य स्त्रोत माना जाता है। जिसे सत्य और प्रमाणित माना जाता है तथा उन्हीं के द्वारा रचित आनंदरामायण के सारकाण्ड के चौथे सर्ग के 3 से 19 श्लोक तक वर्णन मिलता है कि

Continue reading

दीप दीप दीपावली

श्री रामजी जिस दिन लौटे थे अयोध्या नगरी ।

जनता खुशी से नाच उठी थी उस पल सबरी ॥

नगर-नगर ग्राम-ग्राम हर घर-घर दीप जला ।
खुशी दौर नभ थल जल पाताल धरा स्वर्ग चला॥

उठा हर घर-घर चमक बुराई सारी मिट गई ।
नव रंग अब छाने लगा धरा मंगलमय भई ॥

देव नर मुनि जीव-जड़ सब झूम खूबहि उठही ।
बाल -युवा- वृद्ध -पंछी सब प्रभु गुणगान गावही ॥

तरु -फूल -फल- पानी- शाखा -जड़ प्रभु नाम जपही ।
मधुर स्वर हर कण- कण से पल- पल फूटन लगही ॥

शीतल सुगंधित मंद पवन सुख रस इत-उत बहावहीं।
नभ घन वसन पहन दे शीतलता छाया अति बनावहीं॥

हर घर -घर गली -गली फैले दीप दीप दीपावली ।
रौनकता -चहलता -नवीनता उमंग हवा जगह- जगह चली ॥

आनंदमय -मंगलमय -रसमय पावन वातावरण दिशि- दिशि समाही ।
दिवस कार्तिक मास अमावस्या अमित खुशहाली प्रकाश देत गवाही ॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit my  Facebook Page

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

बेचारा रावण(कुण्डलिया)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी? 

मैं आत्महत्या क्यों करूँ? (कविता)

नेता खड़ा पिपासा (मुक्तक)

दोहे

आजकल के बच्चे  (कविता /Modern Poem)

धनतेरस मुक्तक

धनतेरस मुक्तकतन   बलिष्ठ   हो  मन  हर्षित  हो ।
सब   मनोंकामनायें  फलित   हो॥
रहे ‘अमित’ यम-धन्वन्तरि आशीष,
खुशी धन दीप सदा प्रज्वलित हो॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also read in Hinglish.

धनतेरस की पूर्ण कथा जानने की लिए यहाँ click करें

Also visit my Facebook Page.

यह भी पढ़ें:

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

दीपावाली प्रतीक है 

आजकल के बच्चे  (Modern poem)

 

मंगलकर्ता विघ्नहर्ता (दोहा)

Shree Ganesha Doha by Amit Chandrawanshiधाकड़ अमित दोहा :

मंगल करण विघ्न हरण, करें आपका ध्यान ।
प्रथम आरती आपको, हो पूरण वरदान॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit my Facebook Page.

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

एक मुस्कान  (कविता)

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

क्यों करूँ आत्महत्या? (कविता)

रक्षाबंधन  (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

अति पावन स्नेह बंधन, रक्षा का अनमोल।
भाई – बहन रिश्तों में, और मिठास दे घोल॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also read in Hinglish

Also visit my Facebook page

यह भी पढ़ें :

एक मुस्कान  (कविता)

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

क्यों करूँ आत्महत्या? (कविता)

नव वर्ष संदेश

image

नया वर्ष शुरू हो गया है और क्या आप हर बार यूँ ही नव वर्ष मनाओगे? 
   मैं आपको मात्र विक्रम संवत् २०७२ के नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ही दे सकता हूँ क्योंकि बधाई तो तब देता जब नव वर्ष की शुरुआत बड़े ही उत्तम ढंग से हुई होती ।परन्तु नव चेतना, नव उल्लास, नव समय इत्यादि को लाने वाला जब असमय ही ओलावृष्टि के साथ कष्टदायक पीड़ा को लेकर आगमन करे तब कदाचित आप इसे सुखद नहीं कह सकते । नव वर्ष सदैव खुशियों को लाने वाला है पर उसके रंग में भंग उत्पन्न करके आपने सारा स्वरूप बिगाड़ दिया है । अब जिम्मेदारी आपकी ही है कि इस शुभ अवसर पर संकल्प लें और इस संसार के विनाश के कारकों को ठीक उसी प्रकार निकाल फेंकिए जिस प्रकार एक तपस्वी संसार की मोह माया को निकाल फेंकता है । 
      आपके पापों का फल अकेले अन्नदाता ही को क्यों चुकाना पड़े । आप पर तो ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा परंतु जिसने दिन रात मेहनत की है उसके हृदय का हाल तो पूछिए, मानो मंदराचल के शिखर से उसके उर को विदीर्ण कर दिया गया हो । लेकिन अभी नहीं तो शीघ्र ही आपको इसका परिणाम भुगतना होगा । प्रदुषण को बढ़ाने के आप वो सारे कृत कर रहे हो जिन्हे आप को नहीं करना चाहिए था बल्कि आप को वृक्षों को अधिक से अधिक संख्या में लगाना चाहिए था पर आप तो इसके विपरीत कर्म कर रहे हो।
Continue reading