Archives

मंगलकर्ता विघ्नहर्ता (दोहा)

Shree Ganesha Doha by Amit Chandrawanshiधाकड़ अमित दोहा :

मंगल करण विघ्न हरण, करें आपका ध्यान ।
प्रथम आरती आपको, हो पूरण वरदान॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit my Facebook Page.

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

एक मुस्कान  (कविता)

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

क्यों करूँ आत्महत्या? (कविता)

Advertisements

रक्षाबंधन  (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

अति पावन स्नेह बंधन, रक्षा का अनमोल।
भाई – बहन रिश्तों में, और मिठास दे घोल॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also read in Hinglish

Also visit my Facebook page

यह भी पढ़ें :

एक मुस्कान  (कविता)

दहेज प्रथा की वास्तविकता  (Reality of Dowry System)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

क्यों करूँ आत्महत्या? (कविता)

गुरु (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

image

गुरु बिन ज्ञान शून्य जगत,गुरु विश्व ज्ञानखान।
असंभव से संभव सब, पाया जो गुरु ज्ञान॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

यह भी पढ़ें :

हनुमान जी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

दहेज प्रथा की वास्तविकता (Reality of Dowry System)

अमित आज तू लोगों को रंग कैसे लगा पाएगा  (कविता)

पिता (दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

निज सुख से पहले रहे, सदैव गृह सुख ध्यान।
पितृ कर्ज से कभी उऋण, न हो सके संतान॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

यह भी पढ़ें :

आजकल के बच्चे  (Modern Poem)

अमित आज तू लोगों को रंग कैसे लगा पाएगा  (होली कविता)

भ्रष्टाचार  (छंद)

पानी की कमी(दोहा)

धाकड़ अमित दोहा :

image

अमित नीर चहुँ ओर था, खूबहि दियो बहाय।
भू जलहि खत्म होय जो, तब मानव पछताय॥

कविअमित चन्द्रवंशी

Continue reading

माँ (दोहा)

image

धाकड़ अमित दोहा :

ममता दामन न छोड़े, माँ करूणाधाम।
भल संतान हो कैसी, दुख सह बनाय काम॥

कविअमित चन्द्रवंशी

यह भी देखें :

दहेज प्रथा की वास्तविकता (Reality of Dowry System)

मुक्तछंद स्वतंत्रता दिवस कविता

नव वर्ष संदेश