Archives

सूखा पेड़ (कुण्डलिया)

कुण्डलिया :

image

खड़ा हुआ था मुस्कराता, हरा भरा वो पेड़।
गंजा मालूम वो पड़े, किसने की ये छेड़॥
किसने की ये छेड़, महंगी बहुत पड़ेगी।
जो सजा दीन आज, उससे बदतर मिलेगी॥
कहे ‘अमित‘ कविराय, बिन पेड़ जीवन उखड़ा।
तरु है धरा जान, न त मौत द्वार तू खड़ा॥

कविअमित चन्द्रवंशी

यह भी देखें : बिन मौसम मौसमों का मजा लीजिए (मुक्तक)

नीर चहुँ ओर था (दोहा)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी?

बेचारा रावण (कुण्डलिया)

दहेज प्रथा की वास्तविकता(Reality of Dowry System)

Advertisements

बेचारा रावण(कुण्डलिया)

धाकड़ अमित कुण्डलिया :

image

रावण का क्या हाल था, कैसे वो बतलाय।
सब कहते थे राम भज,अपना कोइ न पाय॥
अपना कोइ न पाय,तब सब को वो डराता।
बताये नीति  बात , अरु वीरों को लड़ाता॥
कहे ‘अमित‘ कविराय,वीरों का था बहाना।
रावण से तो दूर, शुभ राम हाथ मर जाना॥

Continue reading