दीप दीप दीपावली

श्री रामजी जिस दिन लौटे थे अयोध्या नगरी ।

जनता खुशी से नाच उठी थी उस पल सबरी ॥

नगर-नगर ग्राम-ग्राम हर घर-घर दीप जला ।
खुशी दौर नभ थल जल पाताल धरा स्वर्ग चला॥

उठा हर घर-घर चमक बुराई सारी मिट गई ।
नव रंग अब छाने लगा धरा मंगलमय भई ॥

देव नर मुनि जीव-जड़ सब झूम खूबहि उठही ।
बाल -युवा- वृद्ध -पंछी सब प्रभु गुणगान गावही ॥

तरु -फूल -फल- पानी- शाखा -जड़ प्रभु नाम जपही ।
मधुर स्वर हर कण- कण से पल- पल फूटन लगही ॥

शीतल सुगंधित मंद पवन सुख रस इत-उत बहावहीं।
नभ घन वसन पहन दे शीतलता छाया अति बनावहीं॥

हर घर -घर गली -गली फैले दीप दीप दीपावली ।
रौनकता -चहलता -नवीनता उमंग हवा जगह- जगह चली ॥

आनंदमय -मंगलमय -रसमय पावन वातावरण दिशि- दिशि समाही ।
दिवस कार्तिक मास अमावस्या अमित खुशहाली प्रकाश देत गवाही ॥

कवि – अमित चन्द्रवंशी

Also visit my  Facebook Page

Also read in Hinglish.

यह भी पढ़ें :

बेचारा रावण(कुण्डलिया)

हनुमानजी की पूँछ में आग क्यों नहीं लगी? 

मैं आत्महत्या क्यों करूँ? (कविता)

नेता खड़ा पिपासा (मुक्तक)

दोहे

आजकल के बच्चे  (कविता /Modern Poem)

Advertisements

2 thoughts on “दीप दीप दीपावली

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s